Skip to content

******धुंधली सी यादें******

Neeru Mohan

Neeru Mohan

कविता

January 29, 2017

*************************
आज खामोश है जमाना,
बोलती हैं केवल तस्वीरें ही|
यही आधुनिकता है,
पुरातन नहीं कहीं से भी |
रोज सुबह उठती हूँ,
सोचती हूँ हर बार |
क्या लौटकर आएगा वो जमाना,
फिर से एक बार |
कुछ अटखेलियाँ कुछ थोड़ा सा प्यार और दुलार |
बचपन में करी मस्ती की,
हर बात और तकरार |
क्या कभी हम भूल पाएँगे,
मन में छपी तस्वीरों की यह बात |
रोज लड़ते थे, झगड़ते थे,
देखने को उनको यूँ मचलते थे |
आज सामने वही है,
पर मिलता नहीं पलभर भी समय बिताने को उनके साथ |
छूटा वह समय लौटकर फिर कभी नहीं आएगा |
यूँ ही तस्वीरों से बहलाएँगे मन,
फसाना यूँ ही बनकर छूट जाएगा |
मौत की शैय्या पर लेटे होंगे जिस दिन हम, उस दिन जमाना फिर से हमें यूँ ही तस्वीरों में लटकाएगा |

Share this:
Author
Neeru Mohan
व्यवस्थापक- अस्तित्व जन्मतिथि- १-०८-१९७३ शिक्षा - एम ए - हिंदी एम ए - राजनीति शास्त्र बी एड - हिंदी , सामाजिक विज्ञान एम फिल - हिंदी साहित्य कार्य - शिक्षिका , लेखिका friends you can read my all poems on... Read more

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग से अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें और आपकी पुस्तक उपलब्ध होगी पूरे विश्व में Amazon, Flipkart जैसी सभी बड़ी वेबसाइट्स पर

साहित्यपीडिया की वेबसाइट पर आपकी पुस्तक का प्रमोशन और साथ ही 70% रॉयल्टी भी

साल का अंतिम बम्पर ऑफर- 31 दिसम्बर , 2017 से पहले अपनी पुस्तक का आर्डर बुक करें और पायें पूरे 8,000 रूपए का डिस्काउंट सिल्वर प्लान पर

जल्दी करें, यह ऑफर इस अवधि में प्राप्त हुए पहले 10 ऑर्डर्स के लिए ही है| आप अभी आर्डर बुक करके अपनी पांडुलिपि बाद में भी भेज सकते हैं|

हमारी आधुनिक तकनीक की मदद से आप अपने मोबाइल से ही आसानी से अपनी पांडुलिपि हमें भेज सकते हैं| कोई लैपटॉप या कंप्यूटर खोलने की ज़रूरत ही नहीं|

अधिक जानकारी के लिए यहाँ क्लिक करें- Click Here

या हमें इस नंबर पर कॉल या WhatsApp करें- 9618066119

Recommended for you