धीरे धीरे

भोर की चादर से निकलकर
शाम की और बढ़ रही है जिंदगी धीरे धीरे !
योवन से बिजली सी गरजकर
बरसते बादल सी ढल रही है जिंदगी धीरे धीरे !
खिलती है पुष्प सी महकती है
फिर टूटकर बिखरने लगती है जिंदगी धीरे धीरे !
संभाल सके इसको गिरने से
जुस्तजू में सिमट गए कितने जुगनू धीरे धीरे !!

!
!
!—:: डी के निवातिया::—

Like Comment 0
Views 264

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share