धीरे धीरे

भोर की चादर से निकलकर
शाम की और बढ़ रही है जिंदगी धीरे धीरे !
योवन से बिजली सी गरजकर
बरसते बादल सी ढल रही है जिंदगी धीरे धीरे !
खिलती है पुष्प सी महकती है
फिर टूटकर बिखरने लगती है जिंदगी धीरे धीरे !
संभाल सके इसको गिरने से
जुस्तजू में सिमट गए कितने जुगनू धीरे धीरे !!

!
!
!—:: डी के निवातिया::—

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 260

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share