May 24, 2018 · कुण्डलिया
Reading time: 1 minute

#कुंडलिया//धागा प्यार का

धागा बाँधो प्यार का , करके हृदय अटूट।
चाहत ऐसी कीजिए , जिसमें पड़े न फूट।।
जिसमें पड़े न फूट , नहीं समझौता करना।
दिल देना मत तोड़ , इसी से बस तुम डरना।
सुन प्रीतम की बात , प्यार में जो हो जागा।
संकट आएँ लाख , जीत उसकी यह धागा।

#आर.एस. ‘प्रीतम’

38 Views
Copy link to share
आर.एस. 'प्रीतम'
713 Posts · 74.7k Views
Follow 34 Followers
🌺🥀जीवन-परिचय 🌺🥀 लेखक का नाम - आर.एस.'प्रीतम' जन्म - 15 ज़नवरी,1980 जन्म स्थान - गाँव... View full profile
You may also like: