Skip to content

धर्म क्या है ?

Naveen Jain

Naveen Jain

गीत

November 10, 2016

विषय – धर्म

धर्म क्या है ?
धर्म कोई पंथ नहीं,
धर्म कोई संत नहीं ।
धर्म की ना शुरूआत है,
धर्म का कोई अंत नहीं ।।

धर्म क्या है ?
धर्म मनोकामना पूर्ति के लिए
मंदिरों में किया गया दान नहीं,
धर्म के आगे सब नतमस्तक
धर्म से बढ़कर कोई महान नहीं ।

धर्म क्या है ?
प्राणियों पे क्षमा करना,
पशुओं पे दया करना ।
मानव होकर दया व
क्षमा का भाव धरना ।

धर्म क्या है ?
धर्म है अपने आपको
मानव सिद्ध करना,
ना कि केवल दिखावा कर
अपने नाम को प्रसिद्ध करना ।।

धर्म क्या है ?
धर्म वो है जो नाश करदे
मानव की दानवता
‘नवीन’ की नजर में है
एक ही धर्म केवल “मानवता”

– नवीन कुमार जैन

Author
Naveen Jain
नाम - नवीन कुमार जैन पिता का नाम - श्री मान् नरेन्द्र कुमार जैन  माता का नाम - श्री मती ममता जैन  स्थायी पता - ओम नगर काॅलोनी, वार्ड नं.-10,बड़ामलहरा, जिला- छतरपुर, म.प्र. पिन कोड - 471311 फोन नं -... Read more
Recommended Posts
जाति-धरम
किस जाति से रिश्ता था जनम से पहले कौन-सा धरम होगा तुम्हारा मृत्यु के बाद उलझन है यह अजीब सा क्या जवाब दे पाएगा बना... Read more
धर्म के नाम पर पशु हत्या क्यों?
मानव को यह जीवन निर्बल की सहायता हेतु मिला है फिर क्यों नहीं समझता कि धर्म के नाम पर पशु हत्या करना किसी भी ग्रंथ... Read more
शेर धर्म और आस्था,
धर्म की कहानियां, असंतुष्ट लोगों ने लिखी हैं, संतुष्ट लोग तो, इसमें रोजगार खोजने में लगे है, . धर्म का मार्ग तो, खुद ही आस्था... Read more
मुझे भारतीय होने पर गर्व है,
*हिंदू धर्म और संभावना* . क्या अब वक्त आ गया है ? क्या हिंदू धर्म ...., ज्यादातर पाखंड से भरा हुआ ? क्या उसे आधुनिकता... Read more