धर्म क्या है ?

विषय – धर्म

धर्म क्या है ?
धर्म कोई पंथ नहीं,
धर्म कोई संत नहीं ।
धर्म की ना शुरूआत है,
धर्म का कोई अंत नहीं ।।

धर्म क्या है ?
धर्म मनोकामना पूर्ति के लिए
मंदिरों में किया गया दान नहीं,
धर्म के आगे सब नतमस्तक
धर्म से बढ़कर कोई महान नहीं ।

धर्म क्या है ?
प्राणियों पे क्षमा करना,
पशुओं पे दया करना ।
मानव होकर दया व
क्षमा का भाव धरना ।

धर्म क्या है ?
धर्म है अपने आपको
मानव सिद्ध करना,
ना कि केवल दिखावा कर
अपने नाम को प्रसिद्ध करना ।।

धर्म क्या है ?
धर्म वो है जो नाश करदे
मानव की दानवता
‘नवीन’ की नजर में है
एक ही धर्म केवल “मानवता”

– नवीन कुमार जैन

Do you want to publish your book?

Sahityapedia's Book Publishing Package only in ₹ 9,990/-

  • Premium Quality
  • 50 Author copies
  • Sale on Amazon, Flipkart etc.
  • Monthly royalty payments

Click this link to know more- https://publish.sahityapedia.com/pricing

Whatsapp or call us at 9618066119 (Monday to Saturday, 9 AM to 9 PM)

*This is a limited time offer. GST extra.

Like Comment 0
Views 41

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing