आख़िर कब तक ।

तुम यू ही मुझे कब तक परेशान करोगे ,
गर जान लो मेरी किरदार हैरान रहोगे ।
तेरी औक़ात नही अभी , जो झुका सके हमे ।
अगर खुद पे आ जाऊ तो हाँथ मलोगे ।
ये जो तू सोचता है मैं की डर जाऊंगा कभी ,
ऐसे सपनों में ही तुम शायद खोये से रहोगे ।
मैं वो किरदार नही जो तेरी शर्तो को मान लू
तुम्हारे कहने पे मैं खुद को यू हार मान लू ।
मैं वो जलता हुआ चराग़ हु जो तू जान ले ,
जिंदगी भर यू ही मुझे तुम याद करोगे ।
मेरी कमजोरी को यू तू बताता ही रहा ।
मेरी सफलताओं पर तुम भी कभी सलाम करोगे ।
खामोशियों को यू तू कमज़ोर ना समझ ,
मैं जो मुँह खोल भी अगर दू तो शायद पता नही ,
दिन में भी आसमाँ में तारे ही गिनोगे ।
अल्लाह और भगवान् एक ही है मगर ,
गर दुआ कर भी दू तो हमेशा परेशान रहोगे ।
मेरी फितरत को तू समझ जा वक़्त है तुझे ,
गर निकल जाएगी वक़्त तो आँसू बहाते फिरोगे ।

:-हसीब अनवर

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 3 Comment 0
Views 52

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share