.
Skip to content

धरा का तु श्रृंगार किया है रे !

राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय

कविता

June 12, 2017

तू धीर, वीर ,गंभीर सदा
जीवन को उच्च जिया है रे,
तु दुःखियों को सींचित् कर श्रुति स्नेह से
कैसा ,ह्रदय रक्षण किया है रे !
तु भाग्य विधाता से हरदम
उन्नत ,मधुर विचार पाया है रे,
तु वीरों के अन्तःस्थल को,
प्रफुल्लित कर प्यार भरा है रे !
तु वंचितों,पददलितों के हित,
सदा कष्टों का भार ढहा है रे,
तु स्वाभिमानी,मातृभूमी हित,
गर्दन पर तलवार सहा है रे !
तु पराधिनता में जगत्-जननी को,
अहा! कैसा धार दिया है रे;
लाखों मस्तक कर अर्पित चरणों में,
अद्भुद् श्रृंगार किया है रे !
अद्भुद् श्रृंगार किया है रे !

अखंड भारत अमर रहे !

©

कवि आलोक पाण्डेय
(वाराणसी)

Author
राष्ट्रकवि आलोक पान्डेय
एक राष्ट्रवादी व्यक्तित्व कवि, लेखक , वैज्ञानिक , दार्शनिक, पर्यावरणविद् एवं पुरातन संस्कृति के संवाहक.....संरक्षक...
Recommended Posts
‘ रावण-कुल के लोग ‘  (लम्बी तेवरी-तेवर-शतक)  +रमेशराज
बिना पूँछ बिन सींग के पशु का अब सम्मान मंच-मंच पर ब्रह्मराक्षस चहुँदिश छायें भइया रे! 1 तुलसिदास ऐसे प्रभुहिं कहा भजें भ्रम त्याग अनाचार... Read more
होली की मनहरण (घनाक्षरी 8,8,8,7)
होली की मनहरण गाँव-गाँव गली-गली मिलकर खेलों होली सबके दिलों में अब प्यार होना चाहिए। भेदभाव भूलकर रहो सब मिलकर किसी को भी नहीं अब... Read more
तु मेरी मोशिकी, तु ही मेरी धुन दिल कोयल कुँहके तु भी सुन मैं तुझे चाहुँ, गाऊँ, गुनगुनाऊँ ऐसा समां तो कभी ना हुआँ दिवाने... Read more
***  मन का पंछी **
?मन का पंछी उड़ ना जाये रे बडी भौर हुई मन दिल को ये समझाये बन्ध पिंजरे में पंछी रे कैसे उड़ ये पाये रे... Read more