माँ की गोद...

कुंडलिया छंद

आश्रय देकर गोद में, सदा लुटाती प्यार ;
धरती धीरज धारणी, सहती कष्ट अपार ;
सहती कष्ट अपार, सभी मन शांति डालती ;
देती अन्न अपार, सभी का पेट पालती;
पाठक जी फिलहाल , बताते माँ है धरती;
हिंदु हो या मुस्लिम, सभी को आश्रय देती||

जनार्दन पाठक उर्फ आर्यन पाठक ‘शायर’
हरदोई

Voting for this competition is over.
Votes received: 31
7 Likes · 39 Comments · 154 Views
मैं बात अपने दिल की कुछ यूँ खोलता हूँ| खामोश रहता हूँ मैं फिर भी...
You may also like: