कविता · Reading time: 1 minute

धरतीपुत्र

धरतीपुत्र_________✍️
हालात जो भी हो हम इन्कलाब लाएंगे ,
आंधी ,तूफान क्या रोकेंगे हम हर मुसीबत से टकराएंगे।।
हम ना टूटे है ना कभी टूटेगें चिर सिना धरती का हम सोना लहलाएंगे ,
सीधे बंदे सीधा हमारा बाणा जब भी देखोगे हम धरती से जुड़े पाएंगे ।।
कर लो जुल्म सितम हम पर “सरकारों”
काले कानूनों का कर के विरोध हम उपर वाले को भी रुलाएंगे ,
हम हिम्मत वाले है ना डरेंगे ना घबरायंगे ।।
खुद भुखे रह लेंगे पर ऐ मेरे भारत के लोगो
तुम्हे कर खेती अनाज फिर भी खिलाएंगे ,
हालात जो भी हो हम इन्कलाब लाएंगे ।।
___________ स्वरचित________
Mob_ 9485709170

1 Like · 4 Comments · 69 Views
Like
Author
11 Posts · 729 Views
मेरा नाम संदीप राजपूत है और मै महेंद्रगढ़ हरियाणा का रहने वाला हूं , विद्या - ग़ज़ल, शेर, मुक्तक, कविता, लघुकथा, लेख और भी बहुत Socal media - Facebook -…
You may also like:
Loading...