.
Skip to content

दो सवैया छंद

आकाश महेशपुरी

आकाश महेशपुरी

कविता

September 17, 2016

दो सवैया छंद

देश हुआ बदहाल यहाँ अब चैन कहीँ मिलता किसको है
चैन भरा दिन काट रहे सब लूट लिए दिखता किसको है
भारत की परवाह नहीँ यह सत्य यहाँ जचता किसको है
ऐश करे अगुवा पर शुल्क यहाँ भरना पड़ता किसको है

पाप यहाँ पर रोज बढ़े पर धीर धरे छुप के रहती है
जुल्म हुआ इतना फिर भी चुप है कि नहीं कुछ भी कहती है
झूठ कहे अगुवा जिस पे सब काज गवाँ कर के ढहती है
सोच रहा यह भारत की जनता कितना कितना सहती

– आकाश महेशपुरी

Author
आकाश महेशपुरी
पूरा नाम- वकील कुशवाहा "आकाश महेशपुरी" जन्म- 20-04-1980 पेशा- शिक्षक रुचि- काव्य लेखन पता- ग्राम- महेशपुर, पोस्ट- कुबेरस्थान, जनपद- कुशीनगर (उत्तर प्रदेश)
Recommended Posts
बनवारी (मत्तगयंद छंद सवैया)
गोकुल ग्राम सजै जब केशव बाँसुरिया धुन बाजत प्यारी संग सखी सब नाचत ग्वालिन दर्श दिखावत हैं बनवारी ग्वाल सखा सब केशव संगहि माखन खावन... Read more
भारत माता
(कुकुभ छंद) पदांत- धरती है भारत माता, समांत- आनों की। अर्द्ध मात्रिक छंद 2222 2222 // 2222 222 (16-14) (अंत में दो लघु के बाद... Read more
दुर्मिल सवैया :-- चितचोर बड़ा बृजभान सखी- भाग 4
*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -4 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 112---112---112--112 रचनाकार :-- अनुज तिवारी "इंदवार" ॥ 7 ॥ अंधियारि अमावस रात भरी... Read more
दुर्मिल सवैया :- भाग 5
*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -5 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 8 सगण /4 पद रचनाकार :--अनुज तिवारी "इंदवार" ॥ 9 ॥ वशुदेव चले... Read more