.
Skip to content

दो लफ्ज़

विजय कुमार नामदेव

विजय कुमार नामदेव

गज़ल/गीतिका

February 20, 2017

बेशर्म की कलम से

दो लफ्ज़ प्यार के

दो लफ्ज़ प्यार के गर मेरे नाम लिख देते।
तुम्हारे नाम ये किस्सा तमाम लिख देते।।

सुबह की धूप सी तुम एक बार हँस देती।।
तेरे हिस्से हरेक अपनी शाम लिख देते।।

बात चलती जो मोहब्बत में बादशाहत की।
हम अपने आपको तेरा गुलाम लिख देते।।

तुमको लगता है अगर गैर हूं तो गैर सही।
दूर से ही कभी मुझको सलाम लिख देते।।

उनको दी जन्नते जागीर मिलीं तुझसे खुदा।
बेशरम के लिए इक दो कलाम लिख देते।।

विजय बेशर्म
9424750038

Author
विजय कुमार नामदेव
सम्प्रति-अध्यापक शासकीय हाई स्कूल खैरुआ प्रकाशित कृतियां- गधा परेशान है, तृप्ति के तिनके, ख्वाब शशि के, मेरी तुम संपर्क- प्रतिभा कॉलोनी गाडरवारा मप्र चलित वार्ता- 09424750038
Recommended Posts
लिख देना
नफरतों के बाजारों में तुम प्यार लिख देना बिखरती जुल्फ को मेरा सलाम लिख देना अगर लिखना है तुमको तो मेरी तुम बात सुन लेना... Read more
चाँद सितारों से बढ़ कर लिख
चाँद सितारों से बढ़ कर लिख फूलो काँटों तक चल कर लिख महफ़िल में जो हो,जाने दे तू तन्हाई में जम कर लिख कौन बुरा... Read more
मैं मिलन गीत लिख-लिख के गाता रहा...
?विधा - गीत ? विषय - मिलन ? ?लय - स्वतन्त्र? ?????????? अक्स दिल में बसा और लुभाता रहा। एक तूफान सा आता - जाता... Read more
गजल
मैं एक ढ़लती हुई शाम उसके नाम लिख रहा हूँ। एक प्यार भरे दिल का कत्लेआम लिख रहा हूँ। ता उम्र मैं करता रहा जिस... Read more