.
Skip to content

दो मुक्तक –आँख से बहते समन्दर …

Dr Archana Gupta

Dr Archana Gupta

मुक्तक

May 23, 2016

आँख से बहते समंदर की रवानी है बहुत
प्यास फिर भी बुझ न पायी खारा पानी है बहुत
पास जाकर भी परखना जानना भी सत्य को
दूर से हर शय यहाँ लगती सुहानी है बहुत

बस राग ही अपने हमें गाने नहीं आते
सीने में छिपे जख्म दिखाने नहीं आते
पीने पड़े हैं दर्द ये सब इसलिये दिल को
आँखों से जो ये दर्द बहाने नहीं आते

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद (उ प्र)

Author
Dr Archana Gupta
Co-Founder and President, Sahityapedia.com जन्मतिथि- 15 जून शिक्षा- एम एस सी (भौतिक शास्त्र), एम एड (गोल्ड मेडलिस्ट), पी एचडी संप्रति- प्रकाशित कृतियाँ- साझा संकलन गीतिकालोक, अधूरा मुक्तक(काव्य संकलन), विहग प्रीति के (साझा मुक्तक संग्रह), काव्योदय (ग़ज़ल संग्रह)प्रथम एवं द्वितीय प्रमुख... Read more
Recommended Posts
*आँसू*
जब भी आँख से बहते आँसू । दिल की व्यथा कहते आँसू ।। कभी दर्द में बहते आँसू । तो कभी ख़ुशी में बहते आँसू... Read more
मुक्तक
कभी कभी रिश्ते बेगाने नजर आते हैं! कभी ख्वाब अपने अनजाने नजर आते हैं! तूफान जब उतरते हैं साँसों में दर्द के, शामे-आलम में पैमाने... Read more
मुक्तक
तुम मेरी यादों में आते किसलिए हो? तुम मेरे दर्द को बुलाते किसलिए हो? वक्त की दीवारों में दफ्न हूँ कबसे, तुम मेरी रूह को... Read more
मुक्तक
कुछ लोग जिन्दगी में यूँ ही चले आते हैं! कुछ लोग वफाओं को यूँ ही भूल जाते हैं! कई लोग तड़पते हैं किसी की जुदाई... Read more