दो पंक्तियाँ

न धन न पद न किसी की मुहब्बत का स्थान है,
मेरे दिल में सिर्फ और सिर्फ मेरा हिंदुस्तान है।

अशोक छाबडा
25012019

Like 1 Comment 0
Views 3

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing