दो दूना बाईस

दो दूना बाईस

बेवजह में वजह ढूंढने की गुंज़ाइश चाहिये !
काम हो न हो पर होने की नुमाइश चाहिये !!

कौन कितना खरा है, किसमे कितनी खोट !
पहले इस बात की होनी आजमाइश चाहिये !!

दिखावे के दौड़ में शामिल है हर कोई शख्श !
तबज्जो पाने के लिए नई फरमाइश चाहिये !!

इंसान इस कद्र आमादा है अपनी गंगा बहाने को !
ढहे मंदिर या मस्जिद, नपी-तुली पैमाइश चाहिये !!

कटे किसी की गर्दन, या शूली चढ़ाया जाये !
किसी भी हाल पूरी अपनी ख्वाहिश चाहिये !!

मुफ्त में बना देंगे खुदा का रहबर हर किसी को !
शर्त ये है मगर, रईसी में होनी पैदाइश चाहिये !!

कौन चाहता है “धर्म” के फल कर्मानुसार मिले !
बिन हेर-फेर सीधे सीधे दो दूना बाईस चाहिये !!
!
!
!
डी के निवातिया

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like 2 Comment 1
Views 159

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share