दो दूना बाईस

दो दूना बाईस

बेवजह में वजह ढूंढने की गुंज़ाइश चाहिये !
काम हो न हो पर होने की नुमाइश चाहिये !!

कौन कितना खरा है, किसमे कितनी खोट !
पहले इस बात की होनी आजमाइश चाहिये !!

दिखावे के दौड़ में शामिल है हर कोई शख्श !
तबज्जो पाने के लिए नई फरमाइश चाहिये !!

इंसान इस कद्र आमादा है अपनी गंगा बहाने को !
ढहे मंदिर या मस्जिद, नपी-तुली पैमाइश चाहिये !!

कटे किसी की गर्दन, या शूली चढ़ाया जाये !
किसी भी हाल पूरी अपनी ख्वाहिश चाहिये !!

मुफ्त में बना देंगे खुदा का रहबर हर किसी को !
शर्त ये है मगर, रईसी में होनी पैदाइश चाहिये !!

कौन चाहता है “धर्म” के फल कर्मानुसार मिले !
बिन हेर-फेर सीधे सीधे दो दूना बाईस चाहिये !!
!
!
!
डी के निवातिया

Like 1 Comment 1
Views 158

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing