23.7k Members 49.8k Posts

दो कुण्डलियाँ (उपवास और ईश्वर)

दो कुण्डलियाँ (उपवास और ईश्वर)
★★★★★★★★★★★★★

(1) उपवास
रहने से भूखा नहीं, होता कुछ भी खास।
क्यों करते हैं आप सब, कठिन कठिन उपवास।
कठिन कठिन उपवास, प्यास को रोके रहना।
कर देगा बीमार, मानिए मेरा कहना।
खाना-पीना छोड़, कष्ट सारे सहने से।
मिलते हैं कब राम, यहाँ भूखा रहने से।।

(2) ईश्वर
ईश्वर, देवी, देव हैं, सच होते या झूठ?
प्रश्न उठाते ही यहाँ, सब जाएंगे रूठ।
सब जाएंगे रूठ, अगर ईश्वर जो होते।
तिल तिल लाखों लोग, भला रोटी को रोते!
यहाँ मचाकर लूट, दुष्ट भर लेते हैं घर।
इतने हैं अपराध, कहाँ बैठा है ईश्वर।।

– आकाश महेशपुरी

Like 4 Comment 2
Views 183

You must be logged in to post comments.

LoginCreate Account

Loading comments
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
कुशीनगर
220 Posts · 41.2k Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...