23.7k Members 50k Posts

दो कुण्डलिनी छंद

दो कुण्डलिनी छंद
1-
कितनी छोटी हो गयी, है मानव की सोच,
आगे बढ़ने के लिए, रहा स्वयं को नोच।
रहा स्वयं को नोच, बढ़ी लालच है इतनी,
और-और का फेर, दुखी दुनिया है कितनी।।
2-
आदत जिनकी हो गयी, लेकर खाना कर्ज,
कामचोर हैं हो गये, भूल गये हैं फर्ज।
भूल गये हैं फर्ज, नहीं पाते वे राहत,
बस लेना ही कर्ज, हुई है जिनकी आदत।।

– आकाश महेशपुरी

85 Views
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
कुशीनगर
221 Posts · 41.4k Views
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा माता- श्री मती...