Skip to content

दोहे-

ramesh kumar chauhan

ramesh kumar chauhan

दोहे

July 6, 2016

जाति जाति के अंग से, एक कहाये देह ।
काम करे सब साथ में, देह जगाये नेह ।
हाथ पैर का शत्रु हो, पीठ पेट में बैर ।
काया कैसे देश की, माने अपनी खैर ।।
पंड़ित वह काश्मीर का, पूछ रहा है प्रश्न ।
टूटे मेरे घोसले, उनके घर क्यों जश्न ।।
हिन्दू हिन्दी देश में, लगते हैं असहाय ।
दूर देश की धूल को, जब जन माथ लगाय ।।
‘कैराना‘ इस देश का, बता रहा पहचान ।
हिन्दू का इस हिन्द में, कितना है सम्मान ।।
दफ्तर दफ्तर देख लो, या शिक्षण संस्थान ।
हिन्दी कहते हैं किसे, कितनों को पहचान ।।
-रमेश चौहान

Author
ramesh kumar chauhan
हिन्दी एवं छत्तीसगढ़ी भाषा में भारतीय छंद विधा का कवि
Recommended Posts
बंटते हिन्दू बंटता देश
आतंकी थे वो सीम्मी के पुलिस ने जिनको मार गिराया । नींद उडी क्यों नेताओ की आज तलक ये समझ ना आया ॥ देश का... Read more
हिन्दू एकता
याद करो सन सेतालिस को अंग्रेजों ने भारत छोड़ा । नाम दे दिया आजादी का इसी नाम पर देश को तोड़ा ॥ पंडितजी ने शुरू... Read more
स्वस्थ समाज
क्या समाज की परिभाषा है , क्यों समाज निर्माण हुआ है । हर घर में कोहराम मचा है , क्यों भाई भाई से चिढ़ा हुआ... Read more
पंच दोहे
पंच दोहे.... पनप रहा है देश में, बहु आयामी आतंक। नहीं अछूता अब बचा, राजा हो या रंक।1 राग द्वेष भ्रष्टाचार अरु, जाति धर्म का... Read more