.
Skip to content

दोहे….

शालिनी साहू

शालिनी साहू

दोहे

May 17, 2017

दोहा…
.
कउन कहै मन के बात, कउन सुनावै तान|
मन कैदी होय गा अब,जब से कीन प्रणाम||
.
पूजन अर्चन सब करा, दीन दीया जलाय|
पूरी होयगै पूजा, माँग न पावा आय||
.
सालत रही मन मा बात, कुछौ न भा उपाय|
जउन रहा वहू गा सब, दीन कहाँ से आय||
.
माटी होयगा सबै, जऊन कीन कमाय|
घर के लुगदी घर रहै, दूसर के न मिलाय||
.
तिल-तिल जोड़ा जायके,महल खड़ा तव जाय|
एकै बार मा सब गवा,अब कछु बचा न भाय||
.
शालिनी साहू
ऊँचाहार, रायबरेली(उ0प्र0)

Author
Recommended Posts
मन की बात
मन मन की सब कोई कहे, दिल की कहे ना कोई। जो कोई दिल की कहे, उसे सुनता नही है कोई। मन पापी मन चोर... Read more
चेहरे गाँवों के हैं बदले जन-मन में स्वारथ का पहरा, हुई नदारद शर्म-हया अब अलग दिखे गाँवों का चेहरा। प्रकृति वादियों में था विचरण, दिखे... Read more
होली हैं (दोहे)
" होली है"(दोहे) 1. खेलों सभी जन मिल के, होली का त्योहार। भेदभाव सब छोड़ दो, छोड़ो सब तकरार।। 2. लकड़ी ना जलाकर के, मन... Read more
आंखें
नही बात है शब्द नही है कुछ समझाया आंखों ने मौन होंठ ने भी बात कही है कही इसारे रहे बोलते संकेतो से बात कही... Read more