Skip to content

दोहे

निर्मला कपिला

निर्मला कपिला

दोहे

July 18, 2016

सब धर्मों से ही बडा देश प्रेम को मान

सोने की चिडिया बने भारत देश महान ।

शाम तुझे पुकार रही सखियाँ करें विलाप

पूछ रही रो रो सभी कहाँ शाम जी आप ।

दीप जलाये देखती रोज़ पिया की राह

साजन जब आये नही मन से निकले आह

\लिये चलो मन वावरे प्रभु मिलन की आस

छोड न उसका दर कभी बुझ जायेगी प्यास

तिनका तिनका जोड कर नीड बनाया आज

अब इसमे हर रोज़ ही बजें खुशी के साज

लूट लिया इस वक्त ने मेरे दिल का चैन

बिछुडे मीत मिले नही नीर बहें दिन रैन

इस जोगन को छोड कर कहाँ गये घनश्याम

तुझ दर्शन की प्यास मे ढूँढे चारों धाम

सुगन्ध देखो फूल की सब को रही सुहाय

सीरत हो इन्सान की फूल सा हो सुभाय

Share this:
Author
निर्मला कपिला
लेखन विधायें- कहानी, कविता, गज़ल, नज़्म हाईकु दोहा, लघुकथा आदि | प्रकाशन- कहानी संग्रह [वीरबहुटी], [प्रेम सेतु], काव्य संग्रह [सुबह से पहले ], शब्द माधुरी मे प्रकाशन, हाईकु संग्रह- चंदनमन मे प्रकाशित हाईकु, प्रेम सन्देश मे 5 कवितायें | प्रसारण... Read more
Recommended for you