.
Skip to content

दोहे रमेश के, मकर संक्रांति पर

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

January 14, 2017

मकर राशि पर सूर्य जब, आ जाते है आज !
उत्तरायणी पर्व का,……हो जाता आगाज !!

घर्र-घर्र फिरकी फिरी, .उड़ने लगी पतंग !
कनकौओं की छिड़ गई,.आसमान मे जंग !!

कनकौओं की आपने,ऐसी भरी उड़ान !
आसमान मे हो गये ,पंछी लहू लुहान !!

अनुशासित हो कर लडें,लडनी हो जो जंग !
कहे डोर से आज फिर, उडती हुई पतंग !!

भारत देश विशाल है,अलग-अलग हैं प्रांत !
तभी मनें पोंगल कहीं, कहीं मकर संक्रांत !!

उनका मेरा साथ है,…जैसे डोर पतंग !
जीवन के आकाश मे,उडें हमेशा संग !!

मना लिया कल ही कहीं,कही मनायें आज !
त्योंहारो के हो गये,.अब तो अलग मिजाज !!

त्योहारों में घुस गई, यहांँ कदाचित भ्राँति !
मनें एक ही रोज अब,नही मकर संक्राँति !!

जीवन में मिल कर रहो, सबसे सदा “रमेश” !
देता है संक्रांति का, …..पर्व यही सन्देश !!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
00000  पतंग  00000
मेँ भी एक पतंग बन जाऊ छू लूँ आसमान की ऊँचाईयो को उनमुक्त हो रंग - बिरंगी तितलियों की तरह लहराऊँ मैं भी लहर-लहर खुले... Read more
उड़ती रहे पतंग
सूर्य उत्तरायण चले, मन में जगी उमंग !! भरें रंग आकाश में, .उड़ती रहे पतंग !! परिवर्तन का पर्व है, आशा भरी उमंग ! आई... Read more
सामयिक ,,,,,सायकिल छाप दोहे
sushil yadav दोहे Jan 10, 2017
सायकिल छाप दोहे आज आदरणीय परम,रूठ गए हैं आप लायक अपने पूत से ,रूठा करता बाप % आहत मन से देखते ,कुछ अनबन कुछ मेल... Read more
*  एक बहिन की पीड़ा *
यह कविता नहीं है एक बहन की पीड़ा है ******************************** राखी की पूर्व सन्ध्या पर स्मरण दिलवाने के वास्ते ताकि नहीं हो भाई-बहिन के अलग-... Read more