Skip to content

दोहे रमेश के दिवाली पर

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

November 12, 2016

संग शारदा मातु के, लक्ष्मी और गणेश !
दीवाली को पूजते, इनको सभी ‘रमेश !!

सर पर है दीपावली, सजे हुवे बाज़ार !
मांगे बच्चो की कई ,मगर जेब लाचार !!

बच्चों की फरमाइशें, लगे टूटने ख्वाब !
फुलझडियों के दाम भी,वाजिब नहीं जनाब !!

दिल जल रहा गरीब का, काँप रहे हैं हाथ !
कैसे दीपक अब जले , बिना तेल के साथ !!

बढ़ती नहीं पगार है, बढ़ जाते है भाव !
दिल के दिल में रह गये , बच्चों के सब चाव!!

कैसे अब अपने जलें, दीवाली के दीप !
काहे की दीपावली , तुम जो नहीं समीप !!

दुनिया में सब से बड़ा, मै ही लगूँ गरीब !
दीवाली पे इस दफा, तुम जो नहीं करीब !!

दीवाली में कौन अब , बाँटेगा उपहार !
तुम जब नहीं समीप तो, काहे का त्यौहार !!

आतिशबाजी का नहीं, करो दिखावा यार !
दीपों का त्यौहार है,….. सबको दें उपहार !

पैसा भी पूरा लगे ,…….. गंदा हो परिवेश !
आतिशबाजी से हुआ,किसका भला “रमेश” !!

आपा बुरी बलाय है, करो न इसका गर्व !
सभी मनाओ साथ में , दीवाली का पर्व !

हाथ हवाओं से सहज ,.. मैंने लिया मिलाय !
सबसे बड़ी मुंडेर पर, दीपक दिया जलाय !!
रमेश शर्मा

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
जो बात दिल में है बताऊ कैसे...........
जो बात दिल में है बताऊ कैसे अब इस राज को दिल में दबाऊ कैसे जो घर के पास आ के ठहरे हो तुम राजेवफ़... Read more
** कैसे भूल जाऊं **
कैसे भूल जाऊं अपने दिल की आवाज़ दिल को कैसे समझाऊं दिल की बात कैसे भूल जाऊं ........... कैसे मैं मर जाऊं, झूठी शान के... Read more
एक और दीवाली
*एक और दीवाली* अब एक और दीवाली आ गई, हर वर्ष की तरह इस वर्ष भी, दीवाली का दिल से स्वागत है। मुझे पता है... Read more
गीत :- दिल मेरा इक कच्चा शीशा
4.2.17 * गीत * 9. 00 ************ दिल मेरा है इक कच्चा शीशा दिल में रहता है दिलबर मेरा **** टूट गया गर् शीशा- दिल... Read more