.
Skip to content

दोहे ताजा घटनाक्रम पर

RAMESH SHARMA

RAMESH SHARMA

दोहे

November 12, 2016

बाजारों में मच गया, जमकर हाहाकार !
आतंकी हैं खौफ में,.. जनता है लाचार !!

नोट हजारी पांच सौ,…… हुए आज से बंद !
बाजारों की हो गई, गति भी सँग-सँग मंद !!

कालाधन माटी हुआ, सहमा भ्रष्टाचार !
आयी है अब रंग में, मोदी की सरकार !!

कालेधन के जोर पर, ..करते थे उत्पात !
मिली उन्हे सरकार से,बडी करारी मात ! !

काले धन पर क्या किया,देते थे इल्जाम !
उनके उल्टे पड गये, पासे आज तमाम !!

अब तो भ्रष्टाचार पर,…..शायद कसे लगाम !
बडा कदम सरकार का,कर जाए कुछ काम !!

नोट हजारी पाँचसौ, हुए आज अखबार !
यही सोच कर रो रहे,.घूसखोर मक्कार ! !

बीवी को आई नही,……पाकिट मारी रास !
मोदी जी की चाल इक, बनी गले की फास !!

नोट हजारी अनगिनत,.बीवी रही निकाल !
अलमारी मे आजतक, जो थे रखे सम्हाल !!

हुए निरर्थक नोट सब, ..सौ से बड़े तमाम !
गुल्लक बेटी की मुझे,आखिर आई काम !!
रमेेश शर्मा.

Author
RAMESH SHARMA
अपने जीवन काल में, करो काम ये नेक ! जन्मदिवस पर स्वयं के,वृक्ष लगाओ एक !! रमेश शर्मा
Recommended Posts
बाजारों में मच गया (दोहा मुक्तक )
बाजारों में मच गया, जमकर हाहाकार ! आतंकी हैं खौफ में, जनता है लाचार !! नोट हजारी पांच सौ, हुए आज से बंद,  आयी है... Read more
अब और नहीं यह 'भ्रष्टाचार'   रोको इसे , मत फलने दो |
Neeru Mohan लेख Jul 21, 2017
आचार भ्रष्ट, व्यवहार भ्रष्ट भ्रष्ट सर्वस्व, भ्रष्ट आचरण भ्रष्टता के आगे पथभ्रष्ट मनुष्य जन सर्वप्रथम अग्रसर रुका नहीं, ठहरा नहीं हुआ भ्रष्ट जब आचरण गृह... Read more
पंच दोहे
पंच दोहे.... पनप रहा है देश में, बहु आयामी आतंक। नहीं अछूता अब बचा, राजा हो या रंक।1 राग द्वेष भ्रष्टाचार अरु, जाति धर्म का... Read more
प्रीत पर दोहे
दोहे 1 हमने अपनी प्रीत पर ,लिखे यहाँ जो गीत सात सुरों में बाँध खुद , झूम गया संगीत 2 बादल पर लिख दे घटा... Read more