23.7k Members 50k Posts
Coming Soon: साहित्यपीडिया काव्य प्रतियोगिता

दोहे ...टोपी, नेता और जनता

टोपी का उपयोग अब, नेता की पहचान।
कुरता भी अब बन गया, नेता जी की शान।।

टोपी हाथी पर चढ़ी, कहीं साइकिल संग।
हाथ हिलाती चल रही, टोपी बनी दबंग।।

नेता मूरख बनाते, जनता को हर बार।
जान बावले बन रहे, देख वोट अधिकार।।

वादों की बातें चली, हाँ सपनों की बात।
दूर दूर पहुँच सपन, बस में रही न बात।।

मोटे मोटे पेट भी, दौड़ लगाते आज।
किस्से और कहानियां, निभा रही है साथ।।

लूटा खूब जनता को, अबहु जनता की बार।
देर सबेर ना कीजिए, मत है एक हथियार।।

???✍?सत्येंद्र कात्यायन

220 Views
सत्येंद्र कात्यायन
सत्येंद्र कात्यायन
1 Post · 220 View
अंशकालिक प्राध्यापक-हिंदी , श्री कुंद कुंद जैन पीजी कॉलेज , खतौली(मुज़फ्फरनगर)
You may also like: