.
Skip to content

दोहे …टोपी, नेता और जनता

सत्येंद्र कात्यायन

सत्येंद्र कात्यायन

दोहे

January 29, 2017

टोपी का उपयोग अब, नेता की पहचान।
कुरता भी अब बन गया, नेता जी की शान।।

टोपी हाथी पर चढ़ी, कहीं साइकिल संग।
हाथ हिलाती चल रही, टोपी बनी दबंग।।

नेता मूरख बनाते, जनता को हर बार।
जान बावले बन रहे, देख वोट अधिकार।।

वादों की बातें चली, हाँ सपनों की बात।
दूर दूर पहुँच सपन, बस में रही न बात।।

मोटे मोटे पेट भी, दौड़ लगाते आज।
किस्से और कहानियां, निभा रही है साथ।।

लूटा खूब जनता को, अबहु जनता की बार।
देर सबेर ना कीजिए, मत है एक हथियार।।

???✍?सत्येंद्र कात्यायन

Author
सत्येंद्र कात्यायन
अंशकालिक प्राध्यापक-हिंदी , श्री कुंद कुंद जैन पीजी कॉलेज , खतौली(मुज़फ्फरनगर)
Recommended Posts
शिक्षित वोटर अनपढ़ नेता
जिस प्रदेश में नारी की सुनवाई नहीँ हो सकती है । उस प्रदेश में कैसे जनता सुख की नींद सो सकती है ॥ जिस प्रदेश... Read more
शीत लहर का कहर
शीत लहर का असर दिख रहा सूरज कुहरे की जंग हो रही। सूरज की देख आंख मिचौली प्रकृति भी सारी दंग हो रही शीतलता अब... Read more
हालाते वतन
जुल्म की दुनिया.सब खौफ है.सब खौफ है....रहनुमा जो बन गया .रहगुजर वो और है.......कल तक सम्हाला था जिन्होने वतन की आबरू ...घर की आबरू बेच... Read more
जनता और जनार्दन
जनता और जनार्दन ........................... चूनावी जंग को तैयार नेता जी निकल पड़े देख सुखियि को रासते में मन ही मचल पडें गाड़ी रोक रास्ते में... Read more