Apr 5, 2020 · दोहे
Reading time: 1 minute

कोरोना संकट पर दोहे

कोरोना संकट पर दोहे
■■■■■■■■■■■■■■
ऐसी विपदा आ गयी, हुये सभी मजबूर।
लम्बी दूरी नापते, पैदल ही मजदूर।।

आया रोग जहाज से, सहम गए हैं लोग।
लाये इसे अमीर पर, रंक रहे हैं भोग।।

जीवन की हर ओर ही, सूख रही है डाल।
मन रोता है देखकर, इस दुनिया का हाल।।

शहर नहीं अब गाँव भी, लगते हैं वीरान।
अनहोनी की फिक्र में, अटक गई है जान।।

नया युद्ध कौशल यही, उचित यही है ढंग।
घर में छुपकर ही लड़ें, कोरोना से जंग।।

-आकाश महेशपुरी
दिनांक- ०३/०४/२०२०

3 Likes · 412 Views
Copy link to share
आकाश महेशपुरी
आकाश महेशपुरी
243 Posts · 47.8k Views
Follow 39 Followers
संक्षिप्त परिचय : नाम- आकाश महेशपुरी (कवि, लेखक) मूल नाम- वकील कुशवाहा जन्मतिथि- 15 अगस्त... View full profile
You may also like: