दोहे.. आगामी चुनाव से ...

दोहे.. आगामी चुनाव से …

बेटे से पद छीनता,कितना बाप कठोर
यौवन ययाति सा मिले,बात यही पुरजोर
$
पिता पुत्र से बोलता ,देखो वीर सपूत
सायकल तुझे सौप दूँ ,और निकाल सबूत
$
सब की है ढपली यहाँ ,सबके अपने राग
ढोल-नगाड़े पीटना ,सुर जाए जब जाग
$
महसूस नहीं हो हमे ,कतरो ऐसे पंख
महा-समर आरंभ हो ,बज जाए फिर शंख
$
फिर चुनाव आना हुआ,निकले वन से राम
हर बगल है छुरी दबी,रखो काम से काम
$
मानवता की आड़ में,दानव रहा दहाड़
आशंकाओं का कहीं, गिरे न मित्र पहाड़
$
सुशील यादव
9.1.2017

Like Comment 0
Views 286

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing