दोहे · Reading time: 1 minute

दोहा

क्यूँ धरम में उलझ रहा क्यूँ बनता नादान।
तेरा मेरा एक है गर माने इन्सान।।

–अशोक छाबडा

2 Likes · 2 Comments · 27 Views
Like
125 Posts · 6.4k Views
You may also like:
Loading...