दोहे · Reading time: 1 minute

दोहा

होती है जग की यहीं , देख पुरानी रीत।
हार के बाद ही मिले, खुशी भरा इक जीत।।१।।

2 Comments · 58 Views
Like
Author
मैं विनय कुशवाहा 'विश्वासी' देवरिया (उत्तर प्रदेश) का निवासी हूँ। मैं अभी कवि जैसा बनने की कोशिश कर रहा हूँ। चेहरे पर न रखता हूँ  कभी मैं उदासी। देवरिया उत्तर…
You may also like:
Loading...