दोहे · Reading time: 1 minute

दोहा

निर्मल मन में रोज ही, आते नवल विचार,
प्रभु चरणों में बैठकर, मिले वही पर सार।।
निधि भार्गव

31 Views
Like
You may also like:
Loading...