दोहे · Reading time: 1 minute

दोहा

लालच की होती नहीं,जग में कोई थाह।
जो इसमें जितना गया,उतना हुआ तबाह।

होती है क्यूँ प्यार में,अक्सर ऐसी बात।
जिसको दो दिल में जगह,करे वही आघात।

1 Comment · 40 Views
Like
5 Posts · 259 Views
You may also like:
Loading...