.
Skip to content

दोहा-मुक्तक

kalipad prasad

kalipad prasad

दोहे

October 1, 2016

दोहा मुक्तक ©

आरम्भ हुआ आज से, गरबा नाच धमाल
गाओ नाचो साथ सब, है डांडिया कमाल
मौज मजा का पर्व है, मधुर है लोक गीत
हँसी ख़ुशी मस्ती करो, दिल में हो न मलाल |
२.
शारदीय नवरात्र है, पूजे सिंह सवार
अनुग्रह दुर्गा मातु का, बाँटो सबको प्यार
शुक्ल पक्ष की प्रतिपदा, तिथि से प्रारम्भ है
नौ दिन का शुभ योग है, माँ कर दीदार |

© कालीपद ‘प्रसाद’

Author
kalipad prasad
स्वांत सुखाय लिख्ता हूँ |दिल के आकाश में जब भाव, भावना, विचारों के बादल गरजने लगते हैं तो कागज पर तुकांत, अतुकांत कविता ,दोहे , ग़ज़ल , मुक्तक , हाइकू, तांका, लघु कथा, कहानी और कभी कभी उपन्यास के रूप... Read more
Recommended Posts
दोहा मुक्तक
दो दोहा मुक्तक दो दोहा मुक्तक: ००० 1. ठिठुरन बढ़ती जा रही,कलम लिखे अब आग। तभी ताप समुचित मिले,उठा कलम अब जाग। चुनौतियों से डर... Read more
दोहा मुक्तक
दोहा मुक्तक......आप सभी गुणीजनों को हिंदी दिवस की हार्दिक बधाई..... "मुक्तक" रसना मीठी रसमयी, वाणी बचन जबान रसिका हिंदी माँ मयी, जिह्वा कंठ महान जस... Read more
जनता को इस देश की     ( दोहा मुक्तक)
जनता को इस देश की,होता यही मलाल! नए नोट लेकर फिरें, फिर से नटवरलाल ! नोट बंद का फैसला,क्या है गलत रमेश, दिल मे उठने... Read more
भारत माँ को हो रहा   (दोहा मुक्तक)
भारत माँ को हो रहा, ..इसका बडा मलाल! उसके हुए शहीद फिर,सीमा पर कुछ लाल! दहशत से ससांर को ,कैसे मिले निजात, दिल मे सबके... Read more