दोहा छन्द ,चाणक्य नीति आधारित

*चाणक्य नीति आधारित दोहा छन्द का प्रयास*

1★
नियत बात को छोड़कर ,करे अनियती ध्यान।
उसका निश्चित जानिये , कैसे हो कल्यान।
2★

सब बातों को देखकर , करिए आप मिलान।
शादी तब ही कीजिये,जब हो एक समान।

3★
थोड़ा ज्यादा दोष तो ,सब मे होता तात।
सो भले बुरे नाम पर ,व्यर्थ बढ़ाओ बात।

4★
आचार आइना सुनो , होता है श्रीमान।
जिस कुल में पैदा हुए ,वो ही भाव प्रधान।

वचन आपके जो सुने, जान जायगा देश।
लखकर आदर भाव को ,पहचाने परिवेश।

5★

कंचन काया देखकर , पता चले है खान।
कृषकाया है मुफलिसी,ओर धनी बलवान।

6★

अच्छे घर मे बालिका ,विवाह दीजिये आप।
ओर ज्ञान हित भेजिए , सुत को बनकर बाप।

7★
सदा कर्म अच्छे करें, लेकर मितवा साथ।
रिपु को बस पहचान कर ,करो खराबा माथ।

*कलम घिसाई*

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 10

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share