Dec 1, 2019 · दोहे
Reading time: 1 minute

दोहा किसान

दोहा — किसान

जो किसान उगाते है,फसल अनेक प्रकार।
भूखमरी वहीं बढ़ते,होते बहुत शिकार।।

कहाँ हो खेती पाती, किसान जहाँ रोये।
कभी जो पीटे छाती,बीज एको न होये।।

सदा ही करें किसानी,थे भारत की शान।
मानव जीव पोषत है,बढ़ा देश की मान।।

खेती पाती जो करे,होता वही किसान।
धरती की सेवा करे,धरती का भगवान।।
~~~~~~~~~~~~~~~~~~~~
रचनाकार डिजेन्द्र कुर्रे “कोहिनूर”
पीपरभावना ,बलौदाबाजार (छ.ग.)
मो. 8120587822

1 Like · 369 Views
Copy link to share
Dijendra kurrey
283 Posts · 6.2k Views
Follow 3 Followers
परिचय नाम -- डिजेन्द्र कुर्रे "कोहिनूर" पिता -- श्री गणेश राम कुर्रे माता -- श्रीमती... View full profile
You may also like: