मुक्तक · Reading time: 1 minute

दोस्त

मुक्तक
अपनापन भरपूर दे,सनेह से दे सींच।
दिलदारी भरपूर हो,कठिनाई के बीच।
उलाहना ना दे कभी,हरे यार का दर्द।
मिले तो आतुरता से,बहियों में ले भींच।

1 Comment · 40 Views
Like
35 Posts · 1.6k Views
You may also like:
Loading...