दोहे · Reading time: 1 minute

दोस्ती

🌹🌹🌹🌹
दर्पण सम है दोस्ती, नहीं बोलता झूठ।
जीवन तन्हा सा लगे, गया दोस्त जब रूठ।। 1

मात-पिता, भाई – बहन, ये रिश्ते हैं खास।
लगे दोस्ती का मगर , एक अलग अहसास।। 2

सुनते ही जिस नाम को, खिले मधुर मुस्कान।
जिसे कृष्णा-सम दोस्त हो, मिले जगत सम्मान।।3

देन ईश की दोस्ती भरे दिलो में प्यार।
हर कोई इस बात को, कहाँ समझता यार।। 4

वो है सच्चा दोस्त जो, थामे रखता हाथ।
सुख चाहे दुख में रहो, देता हमदम साथ।। 5

पड़े नहीं कुछ सोचना , जब होती है बात।
हो जाते खुद ही बयाँ, दिल के सब हालात।। 6

कभी छिपा सकते नहीं, उससे कोई राज।
यहाँ दोस्त जैसा नहीं ,कोई भी हमराज।। 7

शब्द नहीं वो दोस्ती , बता सकूँ जो अर्थ।
बिना शर्त जो साथ दे, नहीं समझना व्यर्थ।। 8
🌹🌹🌹🌹—लक्ष्मी सिंह

57 Views
Like
You may also like:
Loading...