Aug 1, 2021
कविता · Reading time: 1 minute

दोस्ती

जीवन में सबसे अनमोल रिश्ता है दोस्ती
प्रेम ओर विश्वास से बँधा रिश्ता है दोस्ती
बिना किसी बंधन के जुडा रिश्ता है दोस्ती
स्वच्छंद आकाश में भरे ऊंची उड़ान है दोस्ती
उदासी भरे मन में महकता गुलाब है दोस्ती
भर दे जीवन में खुशियों के नवरंग दोस्ती
बचपन की मधुर यादों का पिटारा है दोस्ती
मन की परतें खोल मिटा दे भेद खास है दोस्ती
नीरस जीवन में खुशियों के रंग घोल दे दोस्ती
हर पल नया जोश भर दे इक आस है दोस्ती
सर्वस्व न्यौछावर कर मित्रता में सर ऊंचा गर्व से
कृष्ण और सुदामा सा जग में पवित्र रिश्ता है दोस्ती

6 Likes · 2 Comments · 180 Views
Like
79 Posts · 13.7k Views
You may also like:
Loading...