.
Skip to content

दोषी कौन? नेता या जनता

डॉ सुलक्षणा अहलावत

डॉ सुलक्षणा अहलावत

कविता

August 23, 2016

मैं नेता हूँ एक राजनेता इसीलिए बहुत बदनाम हूँ मैं।
मुँह पर तुम जैसों से सुनता प्रशंसा सुबह शाम हूँ मैं।

पीठ पीछे तुम जैसे मुझे गाली देते हैं देते बद्दुआ हैं,
खूब कहते हैं राजनीति करने में हो रहा नाकाम हूँ मैं।

पर सच तो ये है जितना मैं दोषी हूँ उतने तुम भी हो,
लेकिन तुम ही बताओ तुम्हें कब देता इल्जाम हूँ मैं।

कभी अकेले में अपने गिरेबान में झाँक कर देखना तुम,
तुम्हारी ही गलत सोच एवँ नीतियों का दुष्परिणाम हूँ मैं।

रिश्वत लेना मुझे तुमने ही सिखाया था भूल गए क्या,
तुम ही आते हो देने तब ही लेता नौकरियों के दाम हूँ मैं।

लाख गुनाह कर लूँ पर तुम हर गुनाह को भुला देते हो,
इसीलिए हर गुनाह को अब तो करता सरेआम हूँ मैं।

अनपढ़ होते हुए बड़े बड़े अफसरों की क्लास लेता हूँ,
ना माने जो कहा मेरा करता उसकी नींद हराम हूँ मैं।

ऐ जनाब! शराब, शबाब, कबाब हर ऐब है मुझ में,
पर ऐब करता हूँ पर्दे में रहकर इसलिए लगता राम हूँ मैं।

मैं कितना ही भ्रष्टाचार कर लूँ कितने ही घोटाले कर लूँ,
फिर भी नेता चुनते हो इसीलिए करता ऐसे काम हूँ मैं।

अब तुम ही कहो असली मायनों में दोषी कौन है हम में,
तुम्हीं बनाते हो नेता, तुम्हारे ही लहू का पीता जाम हूँ मैं।

सुलक्षणा अब के बाद मुझे दोष मत देना तुम कभी भी,
मुझ पर ऊँगली उठाने वालों का करता काम तमाम हूँ मैं।

Author
डॉ सुलक्षणा अहलावत
लिख सकूँ कुछ ऐसा जो दिल को छू जाये, मेरे हर शब्द से मोहब्बत की खुशबु आये। शिक्षा विभाग हरियाणा सरकार में अंग्रेजी प्रवक्ता के पद पर कार्यरत हूँ। हरियाणवी लोक गायक श्री रणबीर सिंह बड़वासनी मेरे गुरु हैं। माँ... Read more
Recommended Posts
नवगीत
नवगीत हूँ मैं यदि नई कविता हो तुम संचेतना ! नवगीत हूँ मैं यदि हो तुम मधुरिम गजल परिकल्पना ! जनगीत हूँ मैं यदि विनय... Read more
नवगीत
नवगीत हूँ मैं यदि नई कविता हो तुम संचेतना ! नवगीत हूँ मैं यदि हो तुम मधुरिम गजल परिकल्पना ! जनगीत हूँ मैं यदि विनय... Read more
मैं और तुम
मैं और तुम मैं प्यासा सागर तट का मैं दर्पण हूँ तेरी छाया का मैं ज्वाला हूँ तड़पन का मैं राही हूँ प्यार मे भटका... Read more
बेटी हूँ मैं...
लाख जंजीरें हो बंधी हुई कितनी ही बेड़ियों में जकड़ी हुई ख़ुशी से सब सहती हूँ मैं किसी से कुछ न कहती हूँ मैं सदा... Read more