दोधक छंद

211 211 211 22

साजन-साजन रोज पुकारूँ
आँगन-आँगन द्वार निहारूँ।
पीर नहीं सजना अब जाने
भूल गये अब क्या पहचाने।।

Like Comment 0
Views 111

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share