.
Skip to content

देश हो रहा शहरी

बसंत कुमार शर्मा

बसंत कुमार शर्मा

गीत

July 12, 2017

गाँव ढूंढते ठौर ठिकाना,
देश हो रहा शहरी.
नहीं चहक अब गौरैया की,
देती हमें सुनाई.
तोता-मैना, बुलबुल, कागा,
पड़ते नहीं दिखाई.
लुप्त हो रहे पीपल बरगद,
फुदके कहाँ गिलहरी.
ऐ सी लगे हुए कमरों में,
खिड़की में भी परदे.
बच्चे बूढ़े यहाँ आजकल,
रहने लगे अलहदे.
कॉलोनी के मेन गेट पर,
चौकस बैठे प्रहरी.
तार तार होते रिश्ते हैं,
लगे जिन्दगी सैटिंग.
फिर भी देर रात तक होती,
मोबाइल पर चैटिंग.
देख न पाता कोई भोर की,
सूरज किरण सुनहरी.
लिए उस्तरा पहुँचा वन तक,
अब मानव का पंजा.
किसे पता कब किस पहाड़ को,
कर डालेगा गंजा.
सिसकी भोर सांझ भी रोई,
चीखी खूब दुपहरी.

Author
बसंत कुमार शर्मा
भारतीय रेल यातायात सेवा (IRTS) में , जबलपुर, पश्चिम मध्य रेल पर उप मुख्य परिचालन प्रबंधक के पद पर कार्यरत, गीत, गजल/गीतिका, दोहे, लघुकथा एवं व्यंग्य लेखन
Recommended Posts
आग
पेट में लगे तो "भूख" दिल में लगे तो "इश्क़" दिमाग में लगे तो "विनाश" देह में लगे तो "राख" घर में लगे तो "बंटवारा"... Read more
बढ़ चढ़ कर मतदान
लोकतंत्र की राह जब,..... लगे नहीं आसान ! फर्ज समझकर तब करो, बढ़ चढ़ कर मतदान !! पछतावा हो बाद में, ..रखा नहीं यदि ध्यान... Read more
चाँद तुमको समझने लगे हैं।
वो तूफानों से यूूं दूर रहने लगे हैं। संभल के बहुत वो चलने लगे हैं। मिला जब से फरेब अपनो से है हर कदम पे... Read more
कविता : आजकल हम बेवजह मुस्कुराने लगे हैं
जिनको कभी थे हम नज़रंदाज़ करते, धड़कन बन दिल में वो समाने लगे हैं ! आजकल बेवजह हम मुस्कुराने लगे हैं !! बदलने लगा है... Read more