.
Skip to content

देश मेरा मेरी पहचान

डॉ०प्रदीप कुमार

डॉ०प्रदीप कुमार "दीप"

लेख

March 26, 2017

” देश मेरा मेरी पहचान ”
——————————-

देश मेरा है मेरी जान ,
सदा मेरा पल-पल अभिमान |
इसकी रक्षा धर्म है मेरा ,
देश मेरा मेरी पहचान ||
———————————-

किसी भी इंसान की वास्तविक पहचान उसके अपने स्वदेश से होती है | स्वदेश ही है ,जो अपनी सौंधी मिट्टी की महक से इंसान के जीवन को महका देता है | स्वदेश का नाम आते ही हमारे अंत:करण और शरीर में जो सिहरण उत्पन्न होती है , वह एक अजीब सा कोमल एहसास होता है | यह नाम चाहे भारत का हो , तिरंगे का हो ,जन-गण-मन का हो , वन्देमातरम् का हो या इंकलाब और जय हिन्द का हो | यह सभी हमारे अंतस में एक सुखद एहसास बनकर प्रवाहित होते रहते हैं | जिस प्रकार हमारी रगों में खून दौड़ता है ,उसी प्रकार देशभक्ति का विचार एक सद्गुण बनकर दौड़ता है | मेरा देश न केवल मेरी पहचान है , बल्कि अनेक सभ्यताओं , संस्कृतियों , संस्कारों , इतिहास , भूगोल , इत्यादि की विशिष्ट पहचान है | हमारी प्राचीनतम सिन्धुघाटी सभ्यता और वैदिक सभ्यता की पहचान पूरे विश्व पटल पर भारत के नाम पर ही सुशोभित हो रही हैं | यहाँ का ऐतिहासिक स्वरूप अपनी विविधता लिए हुए है और अपनी -अपनी विशिष्ट छाप के कारण वैश्विक स्वरूप में विद्यमान है | वेद ,पुराण ,महाभारत ,रामायण ,गीता जैसे शाश्वत ग्रंथों की जब भी चर्चा होती है तो यही तथ्य उभर कर आता है , कि ये भारत देश की अमूल्य धरोहरें हैं | जब भी ऋषि संस्कृति और संस्कृत का उल्लेख होता है तो भारत की अभूतपूर्व और गौरवमयी गरिमा का विशेष रूप से बखान होता है | भारतीय परम्परा , रीति – रिवाज, कला और संस्कृति की जब भी बात होती है तो इनकी पहचान भारत के नाम से ही होती है ,जैसे – जैन धर्म, बौद्ध धर्म ,हिन्दू धर्म इत्यादि अनेक धर्मों की जन्मभूमि और कर्मभूमि भारत की ही पावन धरा रही है और इसी के कारण इनकी पहचान है | षड्दर्शनों यथा – सांख्य -योग , न्यय – वैशेषिक ,पूर्व मीमांसा और वेदान्त इन सभी के दार्शनिक विचारों ने सम्पूर्ण विश्व में अपनी अमिट छवि बना रखी है , जिसकी केन्द्रीय पहचान भारत ही है |
भौगोलिक दृष्टिकोण से देखा जाए तो बहुत सी भौगोलिक विशेषताऐं भारत में विद्यमान हैं जो भारत के नाम से ही पहचानी जाती हैं जैसे – विश्व की सबसे प्राचीनतम वलित पर्वतश्रेणी – अरावली , सबसे नवीन पर्वतश्रेणी- हिमालय , सबसे ऊँचा रणक्षेत्र- सियाचीन इत्यादि-इत्यादि | यही नहीं भूगर्भिक तौर पर हुई हलचलों तथा कुछ विशेष जड़ी-बूटियों और जैवविविधता की पहचान भी भारत भूमि ही है | यहाँ होने वाली वर्षा भी अपनी पहचान “भारतीय मानसून ” के रूप में करवाती है | स्वयं हिन्द-महासागर भी अपनी पहचान हिन्दुस्तान के महासागर के रूप में सुनिश्चित करवाता है | यह विश्व का एकमात्र महासागर है , जिसका नामकरण किसी देश के नाम पर रखा गया है | बहुत सारे खनिज ,मसाले ,खाद्यान ,फल और पशुउत्पाद ऐसे हैं जो केवल भारत में ही उपलब्ध हैं और भारत के नाम से ही जाने जाते हैं | आज वैश्विक पटल पर अनेक भारतीय उत्पादों को “वैश्विक भौगोलिक सूचकांक” में भारत के नाम से ही शामिल किया गया है | अनेक भारतीय आदिवासी समूह ऐसे हैं जो केवल भारत में ही पाए जाते हैं जिनकी पहचान भी भारत भूमि ही है |
समाजशास्त्रीय दृष्टिकोण से देखा जाए तो हम कह सकते हैं कि – परिवार , समूह , समाज , संस्था ,समिति ,समुदाय , सांस्कृतिक गतिविधियाँ इत्यादि की कुछ विशेषताऐं इतनी विशिष्ट और अद्भुत हैं कि इनकी पहचान भारतीय समाज और संस्कृति के रूप में ही होती है | सामाजिक-संगठनात्मक स्वरूपों की पहचान भी भारतीयता से लबरेज रहती है | हमारे देश भारत ने विविध भाषाओं को जन्म और पहचान दी है ,जो कि मानवीय अभिव्यक्ति के लिए एक सशक्त जरिया है | वर्तमान में योग की पहचान भी भारत ही है | यह कहना उचित है कि भारत “विश्व-गुरू” तो था ही अब ” योग-गुरू” बनकर हमें वैश्विक पटल पर सदा-सर्वदा के लिए मंच पर ले आया है | भारत ही वह देश है जिसने विश्व को “शून्य ” दिया जिससे गणित के क्षेत्र में क्रांति पैदा की | इसी प्रकार हम देखते हैं कि न केवल धरा पर अपितु अंतरिक्ष में भी भारत ने हमारी पहचान बनाई हैं | बहुत सारे कृत्रिम उपग्रह , अंतरिक्ष यान भारत की शान और पहचान बनकर परिक्रमण पथ पर निरन्तर गतिमान हैं | अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण से भारत ने अपनी विशेष पहचान बनाकर हमें नई पहचान दिलवाई है | यह गौरव का विषय है कि जब भी वैश्विक पटल पर आर्थिक मंदी आई है , सभी देशों में वह आफत बनकर छाई है , परन्तु हमारे देश में आर्थिक मंदी कुछ नहीं बिगाड़ पाई है | विविध क्षेत्रों में अनेक भारतीय कंपनियों और विशिष्ट व्यक्तियों को पहचान भारत ने दिलवाई है | औपनिवेशिक काल में यह देखा गया था कि किस प्रकार अंग्रेजों ने भारतीय संसाधनों का विदोहन किया और किस प्रकार “संसाधन और धन निष्क्रमण ” पूरे विश्वास के साथ किया और दूसरे देशों में भारतीय पहचान के रूप में उनका निर्यात भी किया |
हमारे देश की पहचान एक निष्ठावान , न्यायप्रिय , अंहिसाप्रिय देश के रूप है और इसके साथ ही “अतिथि देवो भव : ” की मान्यता का प्रभाव भी विशिष्ट है | हमारे यहाँ विविध संस्कृति और धर्मों के लोग निवास करते हैं तथा शरणार्थी भी शरण प्राप्त करते हैं | जब भी विश्व समुदाय में कोई अप्रिय घटना घटित होती है तो वैश्विक समुदाय के लोगों को भारत सुरक्षित देश नजर आता है | व्यक्तिगत रूप से हम देखें को यह सुनिश्चित होता है कि “मेरा देश मेरी पहचान ” उक्ति यथार्थ और उचित है क्यों कि – सदियों से भारत ने हमें पहचान दिलाई है | इस प्रकार की पहचान के हम कुछ व्यक्तिगत दृष्टांत देख सकते हैं जैसै — राम ,कृष्ण ,अर्जुन , अभिमन्यु , द्रोणाचार्य , भीष्म , शंकर ,रामानुज , पतंजलि , पाणिनी , स्वामी विवेकानन्द , महात्मा गाँधी ,रवीन्द्र नाथ टैगौर ,डॉ० भीमराव अंबेडकर , सुभाष चन्द्र बोस , कल्पना चावला , डॉ० ए०पी०जे०अब्दुल कलाम , मुशी प्रेम चंद , आर्यभट्ट , नागार्जुन , महात्मा बुद्ध , महावीर स्वामी , गुरू नानक , डॉ० एम०एस०स्वामीनाथन ,डॉ० वर्गीज कुरियन, नरेन्द्र मोदी इत्यादि-इत्यादि अनेक महान् व्यक्तियों की पहचान स्वदेश रहा है और ये स्वयं भी देश की आन-बान-शान रहे हैं | अंत में यही तथ्यात्मक और गूढ़ भावाभिव्यक्ति उजाकर होती है कि “मेरा देश मेरी पहचान ” है |
——————————
डॉ० प्रदीप कुमार “दीप”

Author
डॉ०प्रदीप कुमार
नाम : डॉ०प्रदीप कुमार "दीप" जन्म तिथि : 02/08/1980 जन्म स्थान : ढ़ोसी ,खेतड़ी, झुन्झुनू, राजस्थान (भारत) शिक्षा : स्नात्तकोतर ,नेट ,सेट ,जे०आर०एफ०,पीएच०डी० (भूगोल ) सम्प्रति : ब्लॉक सहकारिता निरीक्षक ,सहकारिता विभाग ,राजस्थान सरकार | सम्प्राप्ति : शतक वीर सम्मान... Read more
Recommended Posts
मेरी बेटी - मेरा वैभव
कविता मेरी बेटी - मेरा वैभव - बीजेन्द्र जैमिनी मेरी बेटी मेरी शान मेरी आनबान मेरी है पहचान मेरी बेटी - मेरा वैभव मेरी बेटी... Read more
कलम
कलम ही मेरी जान हैं, कलम ही मेरा जहाॅ है, कलम ही मेरी पुजा हैै, कलम ही मेरा ध्‍यान है, कलम ही मेरी अवनि है,... Read more
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है । आदमी की चादर है आधी , पैर दुगुने पसार रहा है । वाह ! मेरा देश... Read more
??मेरा देश??
??मेरा देश?? गुलो में परगो का काम अलग होता है।। अँधेरे में चिरगो का काम गजब होता है।। ये मेरा हिन्द देश सिरमौर है सब... Read more