.
Skip to content

“देश मेरा दिव्य पावन धाम है”

Ankita Kulshreshtha

Ankita Kulshreshtha

गज़ल/गीतिका

July 22, 2016

>> देश मेरा दिव्य पावन धाम है
>> गूंजता हर ओर इसका नाम है
>> ~~~~~~
>> जन यहाँ के हैं सरल मन भाव के
>> देखते कण कण में सीताराम है
>> ~~~~~~
>> गाय भी माता हमारी, पूज्य है
>> नाग की पूजा यहाँ पर आम है
>> ~~~~~~
>> मंदिर कहीं मस्जिद कहीं चर्च दिखे
>> सर्व धर्म यहाँ ,भाव का आवाम है
>> ~~~~~~
>> है अनोखी रीति सच्ची प्रीति की
>> हर गली में एक राधा श्याम है

>> शांत सुमधुर है यहाँ वातावरण
>> ईश भी करते यहीं विश्राम है
>> ~~~~~~
>> देश की पहचान परहित भावना
>> है नहीं दुख शोक या संग्राम है
>> ~~~~~~
>> मानती दुनिया हमारा हौंसला
>> अतिथि देवो भव हमारा काम है
>> ~~~~~
>> प्राकृतिक सौंदर्य का है राष्ट्र ये
>> छवि बङी सुंदर बङी अभिराम है
>> ~~~~
>> भारती हैं हम,हमारा भाग्य है
>> प्यार बदले प्यार ये ही दाम है
>> ~~~~•~
>> ••~~~••
अंकिता कुलश्रेष्ठ आगरा

Author
Ankita Kulshreshtha
शिक्षा- परास्नातक ( जैव प्रौद्योगिकी ) बी टी सी, निवास स्थान- आगरा, उत्तरप्रदेश, लेखन विधा- कहानी लघुकथा गज़ल गीत गीतिका कविता मुक्तक छंद (दोहा, सोरठ, कुण्डलिया इत्यादि ) हाइकु सदोका वर्ण पिरामिड इत्यादि|
Recommended Posts
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है ।
वाह ! मेरा देश किधर जा रहा है । आदमी की चादर है आधी , पैर दुगुने पसार रहा है । वाह ! मेरा देश... Read more
पुनः सोने की चिड़िया बनने को...
मेरा प्यारा देश चल पड़ा तरक्की की राह पर पुनः सोने की चिड़िया बनने को खुशहाली होगी जहाँ हर घर-आँगन में जहाँ बसता है ईश्वर... Read more
गौरव
मुझे गौरव है मेरा महान देश है भिन्न भिन्न इस देश का वेश है यहां हर एक हिन्दुस्तानी की ऐश है विशव का सबसे प्यारा... Read more
कैसे कहु मेरा देश आजाद है/मंदीप
समझा जाता जहाँ नारी को जूती के समान, होता जहाँ नारी का हर रोज अपमान, कैसे कहु मेरा देश आजाद है। बन्दी पट्टी जिस देश... Read more