देश में रोजगार की समस्या क्यों ?----आर के रस्तोगी

गाँव खाली हो रहे,सब शहरों की तरफ ही भाग रहे |
खेती-बाड़ी छोड़ कर,कारखानों की तरफ भाग रहे ||

हलधर हल नहीं चला रहे,ट्रेक्टर वे सब चला रहे |
बुआई से कटाई तक,सब मशीनों से काम हो रहे ||

आबादी बढती जा रही,इस पर नियन्त्रण न हो रहे |
कब तक भार भू सहेगी,ये प्रश्न उभर कर आ रहे ||

मशीनीकृत सब चीजे हो गयी,लोग खाली घूम रहे |
हजारो व्यक्तियों का काम,कुछ व्यक्ति ही कर रहे ||

जरूरते सब की बढ़ गयी,सब के खर्चे ज्यादा हो रहे |
सयुक्त परिवार की जगह,एकल परिवार अब हो रहे ||

फिर पूछते हो तुम,रोजगार के अवसर क्यों कम हो रहे ?
पुरानी परम्पराओ को छोड़ कर,अब सब नई अपना रहे ||

आर के रस्तोगी
मो 9971006425

क्या आप अपनी पुस्तक प्रकाशित करवाना चाहते हैं?

साहित्यपीडिया पब्लिशिंग द्वारा अपनी पुस्तक प्रकाशित करवायें सिर्फ ₹ 11,800/- रुपये में, जिसमें शामिल है-

  • 50 लेखक प्रतियाँ
  • बेहतरीन कवर डिज़ाइन
  • उच्च गुणवत्ता की प्रिंटिंग
  • Amazon, Flipkart पर पुस्तक की पूरे भारत में असीमित उपलब्धता
  • कम मूल्य पर लेखक प्रतियाँ मंगवाने की lifetime सुविधा
  • रॉयल्टी का मासिक भुगतान

अधिक जानकारी के लिए इस लिंक पर क्लिक करें- https://publish.sahityapedia.com/pricing

या हमें इस नंबर पर काल या Whatsapp करें- 9618066119

Like Comment 0
Views 1

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share