Skip to content

देश भक्ति ग़ज़ल

Bhaurao Mahant

Bhaurao Mahant

गज़ल/गीतिका

September 30, 2016

221 1222 221 1222

ये खून खराबा अब स्वीकार नहीं होगा
गर वार किया तुमने इंकार नहीं होगा

ये बंद करो नाटक जो खेल रहे हो तुम
आतंक तुम्हारा ये स्वीकार नहीं होगा

वो वार करेंगे हम ये पाक ज़रा सुन ले
देखा कभी तूने ऐसी मार नहीं होगा

जब जान गवाई है इस देश पे वीरों ने
बलिदान शहीदों का बेकार नहीं होगा

अब बात नहीं करना तुम पाक लड़ाई की
गर वार किया हमने अवतार नहीं होगा

धोखे से छला तुमने सोये हुए शेरों को
इक बार हुआ जो भी हर बार नहीं होगा

तुम एक को मारोगे हम चार गिरायेगें
हम लाश बिछा देंगे, संसार नहीं होगा

तुम प्यार से गर मांगो हम खीर तुम्हें देंगे
कश्मीर अगर मांगो स्वीकार नहीं होगा

बी0 आर0 महंत

Author
Bhaurao Mahant
Recommended Posts
अब तो सहन नही होगा
अब तो सहन नही होगा किए वार पर वार पाक ने हम सहकर मानवता करते पर अब रहम नही होगा अब तो सहन नही होगा।... Read more
??? ????वो बूढ़ा है पर अब लाचार नहीं होगा
??? ??? ? गजल ⭐ ********* वो बूढ़ा है पर अब लाचार नहीं होगा । कहता था बच्चों पर वो भार नहीं होगा । जिनको... Read more
गज़ल :-- जमीं का चार गज होगा !!
गज़ल :-- जमीं का चार गज होगा !! बहर :-- 1222 -1222 -1222 -1222 शिवालय भी सुसज्जित हो सुशोभित आज हज होगा !! तुम्हारे होंठ... Read more
शोर यूं ही...ग़ज़ल
ग़ज़ल ----- शोर यूंही परिन्दो ने मचाया होगा। मैं जिसे ढ़ूढ़ रही मेंरा ही साया होगा। ग़ौर से सुनती मै अफसाना सनम। ग़र होता इल्म... Read more