.
Skip to content

देश को मत बांटो तुम भाई।

Vindhya Prakash Mishra

Vindhya Prakash Mishra

कविता

July 20, 2017

देश को मत बांटो तुम भाई,
अपने हित साधन हेतु
सब कर रहे लडाई
भिन्न धर्म है भिन्न वेश है,
हम सबका पर एक देश है।
बंटे रहे है मुस्लिम हिंदू सिक्ख ईसाई,
देश को मत बांटो तुम भाई।
हिंसा हल नहीं किसी बात का,
कितनो ने यूँ ही जान गंवाई,
देश को मत बांटो तुम भाई।
एक माँ की हम सब संताने ,
हम सब आपस मे भाई भाई ।
देश को मत बांटो तुम भाई।

Author
Vindhya Prakash Mishra
Vindhya Prakash Mishra Teacher at Saryu indra mahavidyalaya Sangramgarh pratapgarh up Mo 9198989831 कवि, अध्यापक
Recommended Posts
कहीं तुम खूँ बहाना मत
(विधाता छंद) मापनी 1222 1222 1222 1222 पदांत- मत समांत- आना कभी टूटे हुए दरपन, से’ घर को तुम सजाना मत. कभी टूटे हुए तारों,... Read more
बड़े भाई
मेरी उलझन को इतना क्यों बढ़ाते हो बड़े भाई तुम अपना दर्द मुझसे क्यों छुपाते हो बड़े भाई अकेले में तुम्हे पाया है मैंने सिसकियाँ... Read more
!!! ये कैसा मजहब !!!
जब हम खुद बहुत छोटे थे तब अपने गुरुजनों से सुना करते थे, कि मजहब नहीं सीखाता, आपस में बैर रखना पर आज जब हम... Read more
***भारत देश के वासी हो तुम**इस मिट्टी पर अभिमान करो**
*भारत माँ के लाल हो तुम इस माता का सम्मान करो तीन रंग का मान करो अपमान ना इसका आज करो *जिस जन्म भूमि पर... Read more