.
Skip to content

“देश का अपमान अब और नहीं “

Pooja Singh

Pooja Singh

कविता

March 2, 2017

“राजनीती की लालच में तुमने ,
शर्म गवां दी इस हद तक !
की आये दिन तुम सब मिलकर ,
सरेआम उछलते हो सैनिक की इज्जत !
हर सैनिक की वीरगति को ,
करते हो तुम हरदिन अपमानित !
पाक के राग गाने वाले ,
इतिहास पलटकर देख तो लो !
काश्मीर तो है ही अपना ,
ये कान खोलकर सुन तो लो !
अभिव्यक्ति की स्वतंत्रता का ,
तुम ऐसा लाभ न लो !
भारत के टुकड़े कर दोगे ,
ऐसे सपने छोड़ ही दो !
खून खौल रहा हर भारतवासी का ,
तुम जैसे गद्दारों पर !
जिस धरती के कर्जदार हो ,
उसको गाली देते हो !
मेरी नजरों में तो तुम सब ,
फाँसी के ही लायक हो “!

Author
Pooja Singh
I m working as an engineer in software company .I m fond of writing poems .
Recommended Posts
भूल कर नफरत मुहब्बत गुनगुनाकर देख लो
भूल कर नफरत मुहब्बत गुनगुनाकर देख लो हर तरफ रहता खुदा पलकें उठाकर देख लो हर तरफ इंसानियत की इक महक सी बह रही बस... Read more
मुक्तक
मेरी जिन्दगी से यादों को तुम ले लो! मेरे दर्द की फरियादों को तुम ले लो! हर घड़ी रुलाती हैं अब तेरी ख्वाहिशें, मेरे ख्यालों... Read more
जान को मेरी....
??? ग़ज़ल ??? बह्र - 212 - 212 - 212 - 212 ?????????? जान को मेरी अब यूँ निकालो न तुम। आज सीने से मुझको... Read more
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो
मेरे होंठों का लरजना तुम सुन लो, इस बेताब दिल का धड़कना तुम सुन लो। धधकती साँसों को महसूस तुम कर लो, मचलते जज़्बातो को... Read more