देव शयनी एकादशी

मन मंदिर में आत्मा रूपी, विष्णु हृदय में बैठे हैं
चतुर्मास अंतस तप को, श्री हरि शयन कहते हैं
पावस ऋतु के चार मास, जप तप के अनुकूल हैं
सन्यासी भी ठहर जाते हैं, आवागमन के प्रतिकूल हैं
निरंकार सृष्टि सभी, शिवमय हो जाती है
आत्मा और ब्रह्म की, सत्ता का आनंद दिलाती है
वर्षा ऋतु और त्योहारों का, एक उल्लास निराला है
देवउठनी ग्यारस तक जप, नमः शिवाय की माला है

10 Likes · 2 Comments · 25 Views
मेरा परिचय ग्राम नटेरन, जिला विदिशा, अंचल मध्य प्रदेश भारतवर्ष का रहने वाला, मेरा नाम...
You may also like: