.
Skip to content

देख तुम्हारी सादगी ,

sushil yadav

sushil yadav

दोहे

March 7, 2017

अपने-अपने दंभ को ,भूल-बिसर के आज
शामिल होली में रहो ,जुड़ता दिखे समाज
#
फागुन-फागुन सा हुआ ,सावन बिछुड़ा मीत
छोड़ अधर की बासुरी ,राधा विरहा गीत
#
कायरता की राह में ,हद से निकले पार
माया जननी मोह की,देख यही संसार
#
पद प्रतिष्ठा वो छोड़ के ,सड़कें नापे रोज
कीचड़-कीचड़ में खिले ,पंकज,कमल,सरोज
#
देख तुम्हारी सादगी , हाथो बचा गुलाल
जीवन सारा काट दे ,इतनी सोच मलाल
सुशील यादव,दुर्ग
7.3.17

Author
sushil yadav
Recommended Posts
फागुन
छायी बहार हवा ने रंग घोली आया फागुन मन भावन धरा ओढ़ी चुनर भाया फागुन रंग गुलाल हरओर मस्तियाँ वर्षा फागुन धूल कीचड़ मुखौटों पर... Read more
सादगी में आनन्द
सादगी में आनंद सादगी का आनंद जो भी जान गया एक बार फिर नामो-शोहरत की सारी , दौड़ हैं ये बेकार वैर भाव और अहंकार... Read more
आया फागुन मास
रसिया के रंग में जब खेले गोरी फाग । समझो ए संग सहेली आया फागुन मास । आया फागुन मास देख कलियाँ भी हर्षायीं ।... Read more
स्त्री सिर्फ तब तक तुम्हारी होती है
स्त्री सिर्फ तब तक तुम्हारी होती है जब तक वो तुमसे रूठ लेती है,लड लेती है आंसू बहा बहाकर , और दे देती है दो... Read more