दूध के दाँत

दूध के दाँत
*************
-डाक्टर साहब ! मुझे ये वाला दाँत निकलवाना है !

-इसे निकलवाने की क्या जरूरत है बेटा ! कच्चा दांत है ! दूध के दाँत खुद ही निकल जाते हैं बेटा !

-अपनी फीस बताइये डाक्टर साहब ! ज्यादा टाल-मटोल मत कीजिए ! परेशान हो चुका हूँ मैं दूध के इन दाँतों से ! जब भी कोई डिसीजन लेने जाता हूँ, माँ-बाप भी ताने देते हैं । कहते हैं- “दूध के दाँत तो टूट जाने दो ” !

– आज मैं तुड़वा कर ही रहूँगा दूध के इस आखिरी दाँत को ! अपनी राह के रोड़े को !

… बेटा अब बड़ा हो रहा था ।
*******************************************************************************
हरीश चन्द्र लोहुमी, लखनऊ (उ॰प्र॰)
*******************************************************************************

2 Comments · 87 Views
कविता क्या होती है, नहीं जानता हूँ । कुछ लिखने की चेष्टा करता हूँ तो...
You may also like: