दूध और आँचल

#दूध_और_आँचल

अपने रक्त से पोषित कर
निज दुग्ध पिलाकर पाला मुझे |
माँ तू ही तो ईश्वर है मेरी
तेरी सेवा करूँ अरु मैं पूजूँ तुझे ||

तेरे स्तन का दूध पिऊँ मैं
हो जवां राष्ट्र का निर्माण करूँ |
तेरे आँचल के छाँव में रहूँ
हर नारी रूप का सम्मान करूँ ||

माँ मैं हूँ इस जग से अज्ञान
दे अक्षर ज्ञान अब मुझको ऐसा |
उँगली उठाकर कोई अब से
ना कहे कोई मुझको ऐसा-वैसा ||

तेरे आँचल का मान रखूँ मैं
तेरे दूध को नहीं लज्जित करूँ |
तुझे लाकर विश्व-पटल पर
विश्व स्तर पर सुसज्जित करूँ ||

तेरे आशीष से फलित हो मैं
खंडित विश्व को अखंड बना दूँ |
इस अखंड भारत को फिर मैं
जगत गुरु पुनश्च प्रचंड बना दूँ ||

माँ तू ही है मेरी प्रथम गुरु
माँ तुहीं मेरी जिस्म-ओ- जाँ है |
जग में सबसे प्यारी तू मेरी
हर रिश्तों में श्रेष्ठ मेरी माँ है ||

================
दिनेश एल० “जैहिंद”
22. 08. 2018

Like Comment 0
Views 4

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share
Sahityapedia Publishing