दुश्मन जमाना बेटी का

????

क्यों जमाना दुश्मन है, बेटी का हर बार।
क्यों पहले ही जन्म के, बेटी देता मार।
जीने का अधिकार दो।। 1

यहाँ मौत के बाद तो , सभी चिता में जाय।
जग बैरी बन बेटियाँ, जिन्दा दिया जलाय।।
माँ कुछ तो उपाय करो ।। 2

नर-नारी दोनों बने, इस जग के आधार।
फिर क्यों दुनिया एक को, समझ रही बेकार।।
नारी से संसार है। 3

जग में नारी शक्ति तो, आप दिखाई देत।
जग बैरी फिर भी सदा, उसे लगाये बेंत।
जीवन कांटों से भरी। 4

दुर्गा, काली शक्ति मैं , समझ नहीं लाचार।
जल जाओगे छेड़ मत, मैं जलती अंगार।
दुश्मन जमाना बच के। 5

बैरी जग से मैं सभी , छिन लूँगी अधिकार।
नहीं सहूँगी अब कभी , कोई अत्याचार। ।
नारी आगे बढ़ रही। 6
????—लक्ष्मी सिंह ?☺

Like Comment 0
Views 165

You must be logged in to post comments.

Login Create Account

Loading comments
Copy link to share