Skip to content

दुर्मिल सवैया :- भाग 6 -चितचोर बड़ा बृजभान सखी ॥

Anuj Tiwari

Anuj Tiwari "इन्दवार"

कविता

February 26, 2017

*दुर्मिल सवैया छंद* :– भाग -5
चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥
8 सगण / 4 पद
रचनाकार :–अनुज तिवारी “इंदवार”

॥ 15 ॥

पख मोर सजा सर मस्तक में ।
इक टीक ललाट निठार लिए ।

बल पौरुष से परिपूर्ण बने ।
शिशु वेद परंगत सार लिए ।

स्त्रुति की कर जोड़ नरायण की ।
सब देव खड़े उपहार लिए ।

सुत देवकि पुष्प समर्पित है ।
शुभ अर्पित आशिष धार लिए ।

Author
Anuj Tiwari
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल , गीत ,नवगीत ,कविता , हाइकु ,कव्वाली , तेवारी आदि चेतना मध्य-प्रदेश द्वारा चेतना सम्मान (20 फरवरी 2016) शिक्षण -- मेकेनिकल इन्जीनियरिंग व्यवसाय -- नौकरी प्रकाशित... Read more
Recommended Posts
दुर्मिल सवैया :-- भाग --5 चितचोर बड़ा बृजभान सखी  ॥
*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -5 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 8 सगण / 4 पद रचनाकार :--अनुज तिवारी "इंदवार" ॥ 14 ॥ इक... Read more
दुर्मिल सवैया :-- चितचोर बड़ा बृजभान सखी- भाग 4
*दुर्मिल सवैया छंद* :-- भाग -4 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥ 112---112---112--112 रचनाकार :-- अनुज तिवारी "इंदवार" ॥ 7 ॥ अंधियारि अमावस रात भरी... Read more
दुर्मिल सवैया :-- चितचोर बड़ा बृजभान सखी !! -भाग -2
दुर्मिल सवैया :-- भाग -2 चित चोर बड़ा बृजभान सखी ! मात्राभार :-- 112 -112 -112 -112 112 -112 -112 -112 !! 4 !! धरुं... Read more
दुर्मिल सवैया :-- चित चोर बड़ा बृजभान सखी - भाग -3
दुर्मिल सवैया :-- चितचोर बड़ा घनश्याम सखी - भाग-3 मात्राभार :-- 112 112 112 112 112 112 112 112 जब कंस वधे सब काम सधा... Read more