Feb 25, 2017 · कविता
Reading time: 1 minute

दुर्मिल सवैया :- भाग 5

*दुर्मिल सवैया छंद* :– भाग -5
चित चोर बड़ा बृजभान सखी ॥
8 सगण /4 पद

रचनाकार :–अनुज तिवारी “इंदवार”

॥ 9 ॥
वशुदेव चले अवधेश धरे ।
इक सूप सजा सर आसन में ।

सब जीव सजीव सचेत चले ।
रख दर्शन की जिद दामन में ।

गरजे बदरी बिजुरी चमकी ।
बरसात बड़ी भय सावन में ।

प्रभु के पग की रज रान लिए ।
मचली जमुना सुर जौवन में ।

1 Like · 2 Comments · 222 Views
Copy link to share
Anuj Tiwari
118 Posts · 56.2k Views
Follow 11 Followers
नाम - अनुज तिवारी "इन्दवार" पता - इंदवार , उमरिया : मध्य-प्रदेश लेखन--- ग़ज़ल ,... View full profile
You may also like: